Monday, July 27, 2015

क्या आगम ही मात्र प्रमाण है ?

क्या आगम ही मात्र प्रमाण है ?
१.आगम प्रमाण है ,किन्तु मात्र वह ही प्रमाण नहीं है |जैन दर्शन में आगम अर्थात आप्त वचन को भी परोक्ष प्रमाण में पांचवां प्रमाण कहा है |उसके पूर्व स्मृति,प्रत्यभिज्ञान,तर्क,अनुमान भी परोक्ष प्रमाण के रूप में ही हैं |सबसे पहले प्रत्यक्ष प्रमाण और उसमें भी इन्द्रिय प्रत्यक्ष और अतीन्द्रिय प्रत्यक्ष ये दो भेद भी किये हैं |ये सभी प्रमाण है |
२.आगम प्रमाण तो है ,लेकिन अनुमान और तर्क को भी महत्वपूर्ण स्थान दिया गया है |जब आगम है तो युक्ति और तर्क आदि की क्या आवश्यकता थी ?आचार्य जानते थे कि आज आगम भले ही भगवान् की वाणी हैं लेकिन कालांतर में छद्मस्थ मनुष्य ही इसे लिखेगा,बोलेगा ,और छपवाएगा |
३.और तब वह लिखने और बोलने में सबसे पहले मंगलाचरण में तो यही कहेगा कि जो भगवान् की वाणी में आया वह मैं कह रहा हूँ और अपने देश ,काल, वातावरण,संप्रदाय,और आग्रहों को भी भगवान् के नाम से अज्ञानता वश उसमें जड़ देगा |कभी कभी परिस्थिति वश धर्म रक्षा के लोभ में भी वह कई तरह के मिथ्यात्व कुछ अच्छे नामों से उसमें डाल देगा |तब बाद में आगम की कौन रक्षा करेगा ?कैसे पता चलेगा कि भगवान् की वाणी का मूल अभिप्राय क्या था ?
४.ऐसे मुश्किल वक्त में सत्य का निर्णय करने के लिए तर्क ,अनुमान प्रमाण काम आयेंगे |मात्र किताबें अंतिम ज्ञान नहीं हैं भले ही वह भगवान् की कही विज्ञापित की गयीं हों ||विवेक भी आवश्यक है | अन्यथा प्रत्यक्ष और आगम ये दो ही प्रमाण होते |
५.आज आवश्यक है कि श्रद्धा के साथ तर्क और युक्ति का प्रयोग अवश्य किया जाय |श्रद्धा के साथ तर्क और युक्ति का प्रयोग ही आगम की रक्षा करेगा और भगवान् ,आप्त और आगम के नाम पर हो रहे मिथ्या प्रतिपादनों पर अंकुश लगाएगा |
६.अनेकांत दर्शन में 'ही' हितकारी नहीं है ,इसलिए आगम भी प्रमाण है ,हम ऐसा ही कहेंगे |
-डॉ अनेकांत कुमार जैन, anekant76@gmail.com

No comments:

Post a Comment